header

megamenu

  • 0-6 वर्ष के आयुवर्ग के बच्चों के पोषण और स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार करना।

  • बच्चे के विकास के उचित मनोवैज्ञानिक, शारीरिक और सामाजिक आधार की नींव रखना।

  • बाल मृत्युदर, कुपोषण और स्कूल छोड़ने की दर को कम करना।

  • बाल विकास को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न विभागों के बीच नीति और कार्यान्वयन के प्रभावी समन्वय स्थापित करना।

  • उचित पोषण और स्वास्थ्य शिक्षा के माध्यम से बच्चे की सामान्य स्वास्थ्य और पोषण संबंधी आवश्यकताओं की देखभाल करने के लिए माँ की क्षमता को बढ़ाना।

  • गर्भवती महिलाओं एवं किशोरियों के पोषण व स्वास्थ्य में सुधार करना।